Categories YOGA

पीठ दर्द को दूर भगाए चक्रासन (उर्ध्व धनुरासन): घर पर आसान तरीका सीखें !

चक्रासन, जिसे उर्ध्व धनुरासन भी कहा जाता है ! योगासनों में सबसे जटिल आसनों में से एक माना जाता है ! यह आसन पीठ के बल लेटकर किया जाता है ! जिसमें शरीर एक चक्र जैसा आकार बनाता है।

Chakrasana Images - Free Download on Freepik

चक्रासन करने के फायदे:

  • मेरुदंड को लचीला बनाता है: चक्रासन रीढ़ की हड्डी को खींचता है ! और उसे लचीला बनाता है, जिससे पीठ दर्द और अकड़न से राहत मिलती है।
  • पाचन क्रिया में सुधार करता है: यह आसन पेट के अंगों की मालिश करता है, जिससे पाचन क्रिया में सुधार होता है ! और कब्ज दूर होती है।
  • छाती को चौड़ा करता है: चक्रासन छाती को खोलता है ! और फेफड़ों को पूरी तरह से फैलने में मदद करता है, जिससे श्वसन क्रिया बेहतर होती है।
  • थायराइड को संतुलित करता है: यह आसन थायराइड ग्रंथि को उत्तेजित करता है और इसके हार्मोन को संतुलित रखने में मदद करता है।
  • तनाव और चिंता को कम करता है: चक्रासन तनाव और चिंता को कम करने में मदद करता है, और मन को शांत करता है।
  • कलाई और कूल्हों को मजबूत बनाता है: यह आसन कलाई और कूल्हों की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है।

उर्ध्व धनुरासन करने का तरीका:

  1. पीठ के बल लेट जाएं।
  2. अपने घुटनों को मोड़ें और अपने पैरों को कूल्हों की चौड़ाई से अलग रखें।
  3. अपने हाथों को अपने कंधों के नीचे रखें, अपनी हथेलियों को जमीन पर सपाट रखें।
  4. धीरे-धीरे अपनी सांस छोड़ते हुए, अपने कूल्हों को ऊपर उठाएं, अपने पैरों और हाथों से दबाव डालें।
  5. अपने सिर को ऊपर उठाएं और अपनी ठुड्डी को अपनी छाती की ओर लाएं।
  6. कुछ देर इसी मुद्रा में रुकें, गहरी सांसें लें।
  7. धीरे-धीरे अपनी सांस लेते हुए, अपने कूल्हों को नीचे करें और वापस प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।

चक्रासन करते समय सावधानियां:

  • यदि आपको कोई पीठ, कूल्हे या कलाई की समस्या है, तो इस आसन को करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।
  • यदि आपको उच्च रक्तचाप है, तो इस आसन को करने से बचें।
  • गर्भावस्था में इस आसन को न करें।
  • यदि आपको चक्कर आने लगे या दर्द महसूस हो, तो तुरंत आसन छोड़ दें।

चक्रासन शुरुआती लोगों के लिए थोड़ा मुश्किल हो सकता है ! यदि आप शुरुआती हैं, तो आप घुटनों को मोड़कर या दीवार के सहारे इस आसन का अभ्यास कर सकते हैं ! धीरे-धीरे आप अपने लचीलेपन और शक्ति को बढ़ाते हुए आसन को पूरी तरह से करने का प्रयास कर सकते हैं !

उर्ध्व धनुरासन एक शक्तिशाली आसन है ! जो आपके शरीर को कई तरह से लाभ पहुंचा सकता है। यदि आप इस आसन का अभ्यास करने का निर्णय लेते हैं! तो धीरे-धीरे और सुरक्षित रूप से अभ्यास करना महत्वपूर्ण है !

अतिरिक्त जानकारी:

  • आप चक्रासन को आसान बनाने के लिए योग ब्लॉक का उपयोग कर सकते हैं।
  • आप चक्रासन का अभ्यास करते समय किसी योग शिक्षक से मार्गदर्शन ले सकते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह जानकारी केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए है और इसे चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। यदि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है !

चक्रासन

चक्रासन के बारे में कुछ सामान्य प्रश्न (FAQs)

क्या चक्रासन शुरुआती लोगों के लिए उपयुक्त है?

नहीं, चक्रासन शुरुआती लोगों के लिए थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इसमें काफी लचीलापन और मांसपेशियों की मजबूती की आवश्यकता होती है। यदि आप शुरुआती हैं, तो आप घुटनों को मोड़कर या दीवार के सहारे इस आसन का अभ्यास करना शुरू कर सकते हैं।

चक्रासन का अभ्यास करते समय मैं किन चीजों का ध्यान रखूं?

उर्ध्व धनुरासन का अभ्यास करते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • पीठ, कूल्हे या कलाई में किसी भी तरह की समस्या होने पर डॉक्टर से सलाह लें।
  • उच्च रक्तचाप वालों को यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • गर्भवस्था में इस आसन से बचें।
  • चक्कर आने या दर्द होने पर तुरंत आसन छोड़ दें।
चक्रासन

चक्रासन को आसान बनाने के लिए मैं क्या कर सकता हूं?

आप उर्ध्व धनुरासन को आसान बनाने के लिए कुछ चीजें कर सकते हैं:

  • योग ब्लॉक का उपयोग करें: ब्लॉक को अपने हाथों के नीचे या अपने कूल्हों के नीचे सहारे के लिए रख सकते हैं।
  • घुटनों को मोड़कर अभ्यास करें: शुरुआत में आप घुटनों को मोड़कर और पैरों को जमीन पर सपाट रखकर आसन का अभ्यास कर सकते हैं।
  • दीवार के सहारे अभ्यास करें: दीवार के सामने खड़े होकर, हाथों को दीवार पर टिकाएं और फिर पीठ को नीचे झुकाते हुए चक्रासन की मुद्रा में आएं। दीवार से धीरे-धीरे दूर होते हुए अभ्यास करें।
  • योग शिक्षक से मार्गदर्शन लें: एक अनुभवी योग शिक्षक आपको सही तरीके से आसन करने में मदद कर सकता है और आपकी प्रगति का मार्गदर्शन कर सकता है।

चक्रासन के कोई दुष्परिणाम हैं?

अगर सही तरीके से न किया जाए तो चक्रासन से कुछ दुष्परिणाम हो सकते हैं, जैसे:

  • कलाई, कंधे या पीठ में दर्द
  • चक्कर आना
  • रक्तचाप बढ़ना

यदि आपको कोई असुविधा महसूस हो तो तुरंत आसन छोड़ दें और डॉक्टर से सलाह लें।

उर्ध्व धनुरासन का अभ्यास करने का सबसे अच्छा समय कौन सा है?

खाली पेट सुबह का समय चक्रासन के अभ्यास के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। आप इसे शाम को भी कर सकते हैं लेकिन भोजन करने के कम से कम 4-6 घंटे बाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *